चलो गिरनार की गोद में शाश्वत नवपद ओली की आराधना करने

शाश्वत कल्याणकभूमि गिरनार महातीर्थ की छत्रछाया में गिरनार दर्शन धर्मशाला के सुरम्य वातावरण में नवपद ओली का अनुपम अवसर

terms

शुभनिश्रा:-

  • युगप्रधान आचार्यसम प.पू. पंन्यास श्री चंद्रशेखरविजयजी म.सा के शिष्य
  • गिरनार तीर्थउपदेशक प.पू.आचार्य श्री धर्मरक्षितसूरीश्वरजी म.सा के शिष्य
  • प. पूज्य.आचार्य श्री हेमवल्लभसूरिजी म.सा.
  • युगप्रधान आचार्यसम प.पू. पंन्यास श्री चंद्रशेखरविजयजी म.सा के शिष्य
  • प. पूज्य मुनिराज श्री दिव्यपद्मविजयजी म.सा.आदि ठाणा 5
  • तथा
  • प. पूज्य आचार्यश्री गुणरत्नसूरीश्वरजी म .सा. जी के शिष्यरत्न
  • प. पूज्य आचार्य श्री रश्मिरत्नसूरीश्वरजी म. सा. के शिष्य
  • प. पूज्य पंन्यास श्री देवरत्नविजयजी म. सा. आदि ठाणा 6
  • तथा
  • प.पूज्य साध्वीजीश्री पुण्यरेखाश्रीजी म. सा. की शिष्या
  • साध्वीजीश्री गुणज्ञरेखाश्रीजी की शिष्या
  • साध्वीजीश्री धर्मज्ञरेखाश्रीजी आदि ठाणा 6

नियम :-

  1. दोनों समय प्रतिक्रमण,तीनो समय देववन्दन,एवं आयोजित सभी अनुष्ठानों में भाग लेना अनिवार्य है|
  2. गिरनार आने जाने का खर्चा खुद आराधकों को ही भुगटना होगा|
  3. व्यवस्थापक की अनुज्ञा के बिगैर आराधक को आराधना स्थल के बाहर या यात्रा के लिए जाना मना रहेगा|
  4. आर्य संस्कृति की मर्यादा अनुसार वस्त्र परिधान करना आवश्यक रहेगा|
I agree to Terms and Condition